Microsensor based world’s first explosive trace detector launched• Recently, Union Education Minister Ramesh Pokhriyal Nishank has launched the world’s first micro sensor based indigenous explosive trace detector (ETD) called Sniffer.• This device is % Made in India. It has been developed by IIT Bombay-associated startup Nanosniff Technologies and its marketing has been done by the byproduct of Startup Critical Solutions linked to IIT Delhi east. With this, its basic technology has been patented in the US and Europe.• This (Micro sensor) will help not only strengthen police, security forces and military security but also civil aviation a new security shield. With the help of this product, even smallest parts of the explosive can be detected and appropriate action can be taken. With this, this affordable device will reduce our dependence on imported explosive trace detector devices.

माइक्रोसेंसर आधारित दुनिया का पहला एक्सप्लोसिव ट्रेस डिटेक्टर लॉन्च
• हाल ही में केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने नैनोस्निफर नामक दुनिया के पहले माइक्रोसेंसर आधारित स्वदेशी एक्सप्लोसिव ट्रेस डिटेक्टर (ईटीडी) लॉन्च किया है।
• यह उपकरण सौ प्रतिशत मेड इन इंडिया है। इसे आइआइटी बांबे से जुड़े स्टार्टअप नैनोस्निफ टेक्नोलाजीस ने विकसित किया है और इसकी मार्केटिंग आइआइटी दिल्ली से पूर्व में जुड़े रहे स्टार्टअप क्रिटिकल साल्यूशंस के बाईप्रोडक्ट विहंत टेक्नोलाजीस ने की है। इसके साथ ही इसकी बुनियादी तकनीक का अमेरिका और यूरोप में पेटेंट कराया गया है।
• इसकी मदद से न केवल पुलिस, सुरक्षा बल और सैन्य सुरक्षा को मजबूती मिलेगी बल्कि नागरिक उड्डयन को भी एक नया सुरक्षा कवच मिलेगा। इस उत्पाद की मदद से विस्फोटक के छोटे-छोटे अंश को भी ढूंढा जा सकता है और उचित कार्रवाई की जा सकती है। इसके साथ ही यह किफायती उपकरण आयातित विस्फोटक ट्रेस डिटेक्टर उपकरणों पर हमारी निर्भरता को कम करेगा।

नैनोस्निफर
• नैनोस्निफर पहला माइक्रोसेंसर आधारित विस्फोटक ट्रेस डिटेक्टर है, जो 10 सेकेंड से भी कम समय में विस्फोटक सामग्री का पता लगा सकता है। यह अलग-अलग तरह के विस्फोटक को पहचानता है और उन्हें उसी अनुरूप वर्गीकृत भी करता है।
• यह सैन्य, पारंपरिक और घर के बने विस्फोटकों का पता आसानी से लगा लेता है। नैनोस्निफर आवाज और दृश्य दोनों रूप से अलर्ट करता है।
• ध्यातव्य है कि नैनोस्निफर ने पुणे स्थित DRDO की उच्च ऊर्जा सामग्री अनुसंधान प्रयोगशाला (HEMRL) परीक्षण को सफलतापूर्वक पार कर दिया है और देश की उच्च आतंकवाद रोधी बल राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड (NSG) द्वारा भी इसका परीक्षण भी किया गया है।

For More Updates Click The Link.