• ‘ Earth Day ‘ i.e. ‘ Earth Day ‘ is celebrated on 22th April with the aim of saving all the creatures and plants living on Earth and raising awareness about environment around the world. 51th anniversary of World Earth Day is being celebrated on 22 April 2021

• World Earth Day 2021 is not being celebrated this year as usual because this year also the world is facing an epidemic like Covid-19 like last year. In view of this epidemic, especially in India, people are celebrating Earth Day by staying at their homes.

• Every year there is also a special theme to celebrate this day. 2021 theme is ‘Restore Our Earth’. There in 2020 it was theme Climate Action.

• We need to adopt environment friendly policies in different areas of the world, keeping in mind climate change. UNDP study recorded a rise in greenhouse gases levels by more than 50 % compared to 1990

• UNDP could earn USD 26 trillion benefits by 2030 by taking bold steps towards climate change and climate action. 18 million new job opportunities can be created by 2030 only in the field of energy if focus on renewable energy.

आज मनाया जा रहा है विश्व पृथ्वी दिवस
• पृथ्वी पर रहने वाले तमाम जीव-जंतुओं और पेड़-पौधों को बचाने तथा दुनिया भर में पर्यावरण के प्रति जागरुकता बढ़ाने के लक्ष्य के साथ 22 अप्रैल के दिन ‘पृथ्वी दिवस’ यानि ‘अर्थ डे’ मनाया जाता है। 22 अप्रैल 2021 को विश्व पृथ्वी दिवस की 51वीं सालगिरह मनाई जा रही है।
• विश्व पृथ्वी दिवस 2021 को इस साल भी हमेशा की तरह नहीं मनाया जा रहा है क्योंकि इस साल भी विश्व पिछले वर्ष की तरह कोविड-19 जैसी महामारी झेल रहा है। इस महामारी को देखते हुए खासकर भारत में लोग अपने अपने घर पर रह कर ही पृथ्वी दिवस मना रहे है।
• हर साल इस दिवस को मनाने के लिए एक विशेष थीम भी होता है। 2021 का विषय ‘Restore Our Earth’ है। वहीँ 2020 में इसका विषय क्लाइमेट एक्शन था।
• हमें जलवायु परिवर्तन को ध्यान में रखते हुए हमें विश्व के लिए विभिन्न क्षेत्रों में पर्यावरण अनुकूल नीतियों को अपनाने की जरूरत है। यूएनडीपी के अध्ययन के अनुसार ग्रीनहाउस गैसों के स्तर में 1990 के मुकाबले 50% से अधिक की वृद्धि दर्ज की गई है।
• यूएनडीपी के अनुसार मौसम परिवर्तन तथा क्लाइमेट एक्शन की दिशा में साहसी कदम उठा कर 2030 तक 26 ट्रिलियन अमरीकी डॉलर के लाभ अर्जित किए जा सकते हैं। यदि अक्षय ऊर्जा पर ध्यान दें तो सिर्फ ऊर्जा के क्षेत्र में ही 2030 तक 18 मिलियन रोज़गार के नए अवसर पैदा किए जा सकते हैं।
प्रष्ठभूमि
• पृथ्वी दिवस की शुरुआत अमेरिकी सीनेटर गेलोर्ड नेल्सन (Gaylord Nelson) ने पर्यावरण की शिक्षा के रूप में की थी। सबसे पहले इस दिन को मनाने की शुरुआत सन् 1970 में हुई, जिसके बाद आज इस दिन को लगभग 195 से ज्यादा देश मनाते हैं।
• साल 1969 में कैलिफोर्निया के सांता बारबरा में तेल रिसाव के कारण भारी बर्बादी हुई थी, जिससे वह बहुत आहत हुए और पर्यावरण संरक्षण को लेकर कुछ करने का फैसला किया।
• 22 जनवरी को समुद्र में तीन मिलियन गैलेन तेल रिसाव हुआ था, जिससे अनेक जीव-जन्तु मारे गए थे। इसके बाद नेल्सन के आह्वाहन पर 22 अप्रैल 1970 को लगभग दो करोड़ अमेरिकी लोगों ने पृथ्वी दिवस के पहले आयोजन में भाग लिया था।

For More Updates Click The Link.