Prime Minister Narendra Modi paid tribute on the birth anniversary of Guru Harichand Thakur of Matua sect• Prime Minister Narendra Modi saluted Guru Harichand Thakur of Matua sect on 09 April on his birth anniversary and said that his life and ideals strengthen many people. With this, the Prime Minister also shared the speech given during the recent visit to Orakandi Thakur BariMatua community• People of Matua sect are seen linked to lower notch in the alphabet system of Hindus. Matua is a special sect of traditional Hindu community, which considers Harichand Thakur as its god.

  1. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मतुआ संप्रदाय के गुरु हरिचंद ठाकुर की जयंती पर दी श्रद्धांजलि
    • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 09 अप्रैल को मतुआ संप्रदाय के गुरु हरिचंद ठाकुर की जयंती पर उन्हें नमन किया और कहा कि उनका जीवन और आदर्श अनेक लोगों को ताकत देता है। इसके साथ ही प्रधानमंत्री ने हाल में ओराकांडी ठाकुर बाड़ी के भ्रमण के दौरान दिए गए भाषण को भी साझा किया

मतुआ समुदाय
• मतुआ संप्रदाय के लोगों को हिंदुओं की वर्ण व्यवस्था में निचले पायदान से जोड़कर देखा जाता है। मतुआ पारंपरिक हिंदू समुदाय का एक विशेष संप्रदाय हैं, जो हरिचंद ठाकुर को अपना देवता मानता है।
• माना जाता है कि हरिचंद ठाकुर ने मतुआ समुदाय की नींव रखी थी। उनका जन्म लगभग 210 साल (1812 में) पहले गोपालगंज (अब बांग्लादेश) के ओराकांडी में हुआ था। मतुआ सिद्धांत बाद में उनके बेटे गुरुचंद ठाकुर के माध्यम से फैल गया।
• ओराकांडी में हरिचंद ठाकुर और गुरुचंद ठाकुर के निवास और आसपास के क्षेत्र को मतुआ लोग पवित्र स्थान मानते हैं। मतुआ लोगों का का मुख्य मंदिर भी यहीं पर स्थित है।
• हालांकि मतुआ आंदोलन मुख्य रूप से ओराकांडी के आस-पास ही केंद्रित था लेकिन 1947 में भारत की आज़ादी और 1971 में बांग्लादेश के मुक्ति संग्राम के बाद अलग-अलग समय में बड़ी संख्या में मतुआ लोग भारत आ गए थे।
• इस समाज में ऐसे शरणार्थियों की भी बड़ी संख्या है, जिन्हें आजतक भारतीय नागरिकता नहीं मिल पाई है। ऐसे मतुआ शरणार्थी नॉर्थ 24 परगना, साउथ 24 परगना, नदिया, जलपाईगुड़ी, सिलीगुड़ी, कूच बेहार और बर्दवान में फैले हुए हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को मतुआ समुदाय के गुरु हरिचंद ठाकुर की जयंती पर उन्हें नमन किया और कहा कि उनका जीवन और आदर्श अनेक लोगों को ताकत देता है. उन्होंने ट्वीट कर कहा कि श्री श्री हरिचंद ठाकुर की जयंती पर मैं उन्हें नमन करता हूं. उनका जीवन और आदर्श अनेक लोगों को ताकत देता है. उन्होंने शिक्षा और सामाजिक सशक्तीकरण को बहुत महत्व दिया. उनके मूल्य विनम्र और दयालु मतुआ संप्रदाय के लोगों में प्रदर्शित होते हैं.

हरिचंद ठाकुर के बारे में माना जाता है कि उन्होंने ही मतुआ समुदाय की नींव रखी थी. उनका जन्म बांग्लादेश के गोपालगंज स्थित ओरकांडी में हुआ था. मतुआ लोग पारंपरिक हिंदू समुदाय के एक विशेष संप्रदाय हैं, जो हरिचंद ठाकुर को अपना देवता मानते हैं. हाल ही अपने बांग्लादेश दौरे के दौरान प्रधानमंत्री मोदी ओरकांडी गए थे और वहां उन्होंने मतुआ समुदाय के लोगों को संबोधित किया था.

For More Updates Click The Link